Guru govind singh motivational story गुरु गोविंद सिंह

गुरु गोविंद सिंह-

भारत माता सदा से ही महात्माओं व साहसी लोगो की जननी रही है यहाँ समय समय पर ऐसे-ऐसे महान योद्धा तैयार हुए हैं जो साधारण होकर भी असाधारण कार्य के लिये जाने जाते है उन्ही लोगो मे से एक महान लीडर हैं गुरुदेव गुरु गोविंद सिंह।

जन्म-

इनका जन्म 22 दिसम्बर को बिहार के पटना मे हुआ था ।

महान लीडर-

ये इतने महान लीडर थे कि तत्कालीन तानाशाह  औरंगजेब भी इनसे डरा डरा रहता था।
औरंगजेब ने इनके पीछे अपने सेनापति और उसके साथ 10 लाख की सेना गुरुजी को ढूढ़ने के लिए लगा दी उस समय औरंगजेब का लगभग पूरे भारत मे कब्जा था उसका बस एक ही मकसद था  कि सिख गुरु को कैसे भी अपने पैर पर झुका दू।
उसने 10 लाख की सेना गुरुदेव के पीछे पीछे लगा दी तभी लड़ा गया चमकौर का युद्ध एक पहाड़ी मे ये 40 सिख थे और पहाड़ी के नीचे घेरे हुए थी 10 लाख की सेना तभी गुरुदेव जी ने हौसला बढ़ाने के लिए बहुत ही प्रसिद्ध नारा दिया जो युगों तक सिख समुदाय मे  अमर रहेगा-

चिड़या दे नाल बांज लडाऊं

गीदड़ नु मे शेर बनाऊ

सवा लाख दा एक लडाऊं

ता गोविंद सिंह नाम कहाऊ


guru govind singh

great sikh leader

इनके अंदर का आत्मविश्वास अविश्वसनीय था मेरा प्रश्न आपसे है अगर आपको 50 लोग घेर कर खड़े हो जाएं तो आप क्या करोगे? आपके लिए भागना ही उचित होगा लेकिन यह 40 लोगों को 10 लाख की सेना  ने घेर लिया फिर भी यह बोलते हैं कि हम जीत जाएंगे।
एक तरफ यह कहते हैं मरते दम तक हार नहीं माननी और दूसरी तरफ मूर्ख मुगल लोग सोचते रहे 40 लोग 10 लाख का क्या बिगाड़ लेंगे।

गुरु जी की बात 40 सिखों को समझ में आ गई पहले सिखों ने गुरूजी जी से बोला गुरुदेव आप अपनी संतानों को लेकर यहां से चले जाएं गुरुदेव बोले "यह दो नहीं सारी मेरी संताने हैं गुरुदेव ने अपने हाथों से अपनी संतानों  सजा कर लड़ने भेजा यह पांच-पांच कर के लोगो को भेजते थे पहाड़ी से बार-बार बार-बार तलवार से वार करके 10  लाख की मुगलों की सेना को धूल चटा दी।
 औरंगजेब घुटने टेक गया लेकिन गुरुदेव को पकड़ नहीं पाया।

हम में से कई लोग जिंदगी में कुछ बड़ा नहीं कर पाते क्योंकि हमारे साथ दिक्कत यही है कि हम लोग कभी बड़ा सोचते ही नहीं अगर 40 सिख 10 लाख की सेना को हरा सकते हैं तो शायद जिंदगी में कोई भी काम असंभव नहीं।
ऐसी अद्भुत शक्ति वाले महान लीडर गुरुदेव श्री गुरु गोविंद सिंह को हमारा शत-शत  नमन।




-धन्यवाद
(silent writer)


#गुरु गोविंद सिंह
#guru govind singh
#motivational story

also
follow us




buy a decent watch just in 399 rupees-https://amzn.to/2k1TMzZ

great book check here-https://amzn.to/2L74uBB

Comments

Popular posts from this blog

जिओ टीवी jio tv की मदद से मोबाइल पर देखें टीवी ।। how to use jio tv

What is pixels || पिक्सल क्या होते हैं?

how touch screen works || टच स्क्रीन क्या है ? टच स्क्रीन कैसे काम करती है ?