Posts

Showing posts with the label universe

BIG BANG THEORY

Image
creation of universe ans solar system ‌THE BIG BANG THEORY
‌जब से इंसान चेतना में आया तो उसे पृथ्वी में तरह तरह की चीजों ने परेशान करना शुरू कर दिया जैसे कि इस पृथ्वी की उत्पत्ति कैसे हुई how earth form ?What is universe and how it form? बह्मांड क्या है ?और इन सब को समझाने के लिए जाने के लिए जन्म लिया बिग बैंग थ्योरीBig bang theory ने इसे महा विस्फोट का सिद्धांत भी कहते हैं
‌जब इंसान ने पृथ्वी से सर उठा कर देखा तो उसने अपने बाएं तरफ सूर्य को देखा और दाएं तरफ उसे  कई ग्रह तारे उल्कापिंड आकाशगंगा दिखाई दी और इंसानी जाति ने यह  पाया कि यह सब एक दूसरे से भाग रही हैं यानी कि एक दूसरे से दूर हो रही है तो इंसान ने सोचा कि अगर मैं अगर यह सब ग्रह तारे उल्कापिंड फैल रहे हैं तो कभी ना कभी यह साथ रहे होंगे और हम वक्त में पीछे गये और  पाया कि एक वक्त ऐसा था जब सारे ग्रहों तारे आकाशगंगा एक साथ थे जिसे उसने विलक्षणता singularity कहा गया और वहां से ब्रह्मांड की उत्पत्ति के 6 मुख्य कारण बताए गए कारण बताए गए।
‌origin of our universe- ‌1- THE BIG BANG THEORYbig bang theory in hindi

‌ इनमें से सबसे ज्या…

THE BLACK hole

दोस्तों आज हम बात करने वाले हैं ब्लैक होल्स के बारे में जी हां ब्लैक होल शायद आप में से बहुत लोग इस बारे में जानते भी होंगे
जैसा कि इसका नाम सुनकर लगता है कि यह कोई काला छेद होगा लेकिन ऐसा बिल्कुल नहीं है यह कोई काला छेद नहीं बल्कि ब्रह्मांड के अद्भुत अकल्पनीय दानव हैं जिनकी भूख कभी खत्म नहीं होती यह हमेशा कुछ ना कुछ खाते रहते  दरअसल ब्लैक होल  इतने सघन आकाशीय पिंड हैं कि इनकी ग्रेविटी के आगे प्रकाश भी नहीं बच सकता अर्थात यह प्रकाश को भी खा जाते हैं यह उतने ही सघन होते हैं मानो पूरी पृथ्वी को दबाकर एक टेनिस बॉल का आकार दे दिया हो अब यह पिंड इतनी ज्यादा सघन होते हैं तो आप अनुमान लगा सकते हैं कि इनकी ग्रेविटी कितनी ज्यादा होगी दोस्तों पृथ्वी के मुकाबले इनकी ग्रेविटी लाखों-करोड़ों गुना ज्यादा होती है एक ब्लैक होल का द्रव्यमान:-                              ब्रह्मांड में जब भी कोई भारी चीज दिखती है तो उसे नापने के लिए हम अपने आसपास सबसे भारी चीज को ढूंढते हैं और हमारे आसपास सबसे भारी चीज है सूर्य तो हम एक ब्लैक होल का द्रव्यमान नापने के लिए उसे सूर्य  से तुलना करते जिसे सोलर मास कहते हैं…