Follow by Email

3/17/19

कंप्यूटर कैसे काम करता है ।। how does computer works ?

कंप्यूटर कैसे काम करता है ?

हैलो दोस्तों  आज के समय में आप सभी लोगों ने कंप्यूटर का इस्तेमाल तो किया ही होगा तो क्या आपने कभी सोचा है कि कंप्यूटर कैसे काम करता है ? आज के इस पोस्ट में हम इसी विषय में बात करेंगे कि आखिर कंप्यूटर काम कैसे करता है  तो स्वागत है आपका टेक्निकल कीड़ा पर चलिए इस  पोस्ट को पूरा पढते हैं।

binary number

कंप्यूटर क्या है ?

दोस्तों  आज के समय में कंप्यूटर हमारी दैनिक जिंदगी का एक अभिन्न अंग है अगर आप एक विद्यार्थी हैं या फिर किसी ऑफिस में काम करते हैं तो आपका काम बिना कंप्यूटर के नहीं चल सकता।

  कंप्यूटर एक ऐसी मशीन है जिसे इंसान ने अपने काम को आसान करने के लिए बनाया कंप्यूटर बनाने के पीछे हजारों लोगों को का दिमाग लगा सबसे पहले जो कंप्यूटर  बना उसका श्रेय चार्ल्स बैबेज को दिया जाता है लेकिन वह कंप्यूटर आज के समय की कंप्यूटर से काफी अलग था । वह केवल गणितीय समस्याओं को हल करने के लिए इस्तेमाल में लिया जाता था उसे आप एक प्रकार का केलकुलेटर भी क्या सकते हैं ।

कंप्यूटर काम कैसे करता है ?


कंप्यूटर काम कैसे करता है यह जानने से पहले हम जानते हैं कि कंप्यूटर में कौन-कौन से भाग  होते हैं ।
 एक कंप्यूटर हमेशा दो भागों में विभाजित होता है जिसे हम हार्डवेयर और सॉफ्टवेयर कहते हैं हार्डवेयर कंप्यूटर का वह हिस्सा होता है जिसे हम छू सकते हैं और महसूस कर सकते हैं।

 जबकि सॉफ्टवेयर कंप्यूटर का वह हिस्सा है जिसे हम छू नहीं सकते उदाहरण के लिए कंप्यूटर में लगा मॉनिटर सीपीयू कीबोर्ड स्पीकर यह सब चीज कंप्यूटर के हार्डवेयर के अंदर आता है ।
 और आपके कंप्यूटर में  लगा operating system windows, Linux ,Unix , Microsoft Office यह सब आपके कंप्यूटर  के सॉफ्टवेयर का भाग है ।
binary number image


 सॉफ्टवेयर क्या होता है ?


Software computer का  वह भाग है जो हार्डवेयर को आसानी से चलाने के लिए बनाया गया है सॉफ्टवेयर को हम छू नहीं सकते लेकिन बिना सॉफ्टवेयर के  हमें हार्डवेयर चलाने में बहुत मुश्किल हो सकती है ।

also read-

how touch screen works || टच स्क्रीन क्या है ? टच स्क्रीन कैसे काम करती है ?

कंप्यूटर काम कैसे करता है  ?


दोस्तों यह प्रश्न आपके दिमाग में कभी ना कभी जरूर उठा होगा कि आखिर कंप्यूटर काम कैसे करता है आपको बता दें कि  कंप्यूटर सिर्फ एक मशीन है जिसे हमने अपनी सुविधा के लिए बनाया है ।

कंप्यूटर की पूरी कार्य विधि सिर्फ binary number    0 और  1 पर टिकी हुई है पूरा का पूरा कंप्यूटर सिर्फ और सिर्फ 0 और 1 से चलता है जी हां आपने सही पढ़ा ।

आखिर  कैसे 0 और 1 से पूरा कंप्यूटर चलता है दरअसल एक कंप्यूटर को बनाने के लिए करोड़ों ट्रांजिस्टर capacitor लगते हैं जिनका आकार कंप्यूटर की generation के आधार पर छोटा होते जा रहा है ।
transistor image
transistor and resistor image


अभी तक सबसे छोटा ट्रांजिस्टर जो बना है वह 3 नैनोमीटर का ट्रांजिस्टर है अब आप सोच सकते हैं इतना छोटा ट्रांजिस्टर कैसे बनाया जाता होगा इस विषय में किसी और पोस्ट में बात करेंगे।

ऐसे ही हजारों लाखों ट्रांजिस्टर एक कंप्यूटर के  अंदर लगे होते हैं और पूरे कंप्यूटर को हम इसी ट्रांजिस्टर से कंट्रोल करते हैं अगर किसी ट्रांजिस्टर में current है तो उसे 1 नंबर मिलता है और अगर ट्रांजिस्टर में current नहीं है तो उसे  0 नंबर मिलेगा ।

 अब हमने इन जीरो और एक की मदद से हर एक नंबर को लिखना सीख लिया जिसे दो  आधार 2 base पर लिखा जाता है । हर एक संख्या को 2 की घात के जोड़ sum + रूप में निरूपित किया जा सकता है । जिसे base 2 बोला जाता है।

उदाहरण के लिए
5= 2^2 +2^0
इस प्रकार हमने हर एक नंबर को बायनरी नंबर  binary number में लिखा जिसे हम 0 और 1 की language भी कहते हैं ।
ascii table
ascii table

उदाहरण के लिए 5 का बाइनरी  00000101 होता है
अगर आप अपने कीबोर्ड से पांच दबाते हैं तो कंप्यूटर उसे पांच की तरह नहीं देखेगा बल्कि उसे 00000101  समझेगा ।
 हर एक ट्रांजिस्टर को बिट कहते हैं और 8 ट्रांजिस्टर के समूह को बाइट कहते हैं इसीलिए  5 का बायनरी लिखने के लिए 101 के पिछे बाकी सभी शून्य लिखे गए ।
00000101  का मतलब है हमारे पास 8 ट्रांजिस्टर का समूह है जिसमें पहले से पांचवे ट्रांजिस्टर तक कोई लाइट current नहीं है इसलिए पहले 5 शून्य लिखे गये।

 जबकि बाकी लिखे101 का मतलब है छठवें  ट्रांज़िस्टरमें लाइट current  है सातवें में नहीं और आठवें में लाइट  current है ।

ट्रांजिस्टर के समूह के हिसाब से हमने संख्याओं को लिखना सीख लिया था लेकिन अगर कोई बड़ी संख्या को लिखना होता तो हमें मुसीबत का सामना करना पड़ा था इसलिए हमने 8 ट्रांजिस्टर की जगह पर 16 ट्रांजिस्टर का इस्तेमाल करना शुरू कर दिया जिसे 16 bit system बोला ।

 16 बिट सिस्टम में 8 की जगह पर 16 ट्रांजिस्टर का ग्रुप होता है जिससे हम किसी भी बड़ी संख्या को लिख सकते हैं ।

 आज के समय में 32 और  64 बिट के सिस्टम भी आ गए हैं जिनसे हम बहुत बड़ी संख्या को भी लिख सकते हैं ।

also read-



What is pixels || पिक्सल क्या होते हैं?

Conclusion-


आज के इस पोस्ट में हमने देखा कि कंप्यूटर कैसे काम करता है  आज के समय में दुनिया भर के काम कंप्यूटर की मदद से , इंटरनेट की मदद से चुटकी में हो जाते हैं ।
जो कि मानव सभ्यता के लिए काफी अच्छी बात है जैसे जैसे समय आगे बढ़ रहा है कंप्यूटर के क्षेत्र में और इंटरनेट के क्षेत्र में विकास होता जा रहा है
 कुछ समय पश्चात ऐसा समय आ जाएगा कि इंसान अपनी सुविधा के लिए सारा काम मशीनों के ऊपर डाल देगा ।

उम्मीद करता हूं कि आपको यह पोस्ट काफी पसंद आया होगा अगर पसंद नहीं आया तो कमेंट बॉक्स में अपनी राय दें और पसंद आया तो इसे ज्यादा से ज्यादा लोगों तक शेयर करें ।



some decent offer-


NEXT ARTICLE Next Post
PREVIOUS ARTICLE Previous Post
NEXT ARTICLE Next Post
PREVIOUS ARTICLE Previous Post
 

best and cheap hosting

Delivered by FeedBurner